स्विस बैंक मै बड़ा भारतीयों का पैसा

भारत सरकार ने कालेधन(Black Money) की रोकथाम के लिए नवम्बर 2016 मै नोटबंदी (Demonetisation) की थी.तब यह बताया गया था की यह उपाये कालेधन की लगाम लगाने के लिए कारगर साबित होगा.हलाकि आकड़ो पर गौर करे तो नोटबंदी इस मामले मै बेअसर साबित हुई है.काले धन के लिए सवर्ग मने जाने वाले स्वीटजरलैंड के बैंको (Swiss Bank)मै भारतीयों का डिपाजिट पिछले साल रिकॉर्ड तेजी से बड़ा और 14 साल के उच्च स्तर पर पहुँच गया.स्विट्जरलैंड के सेंट्रल बैंक (Switzerlands’s Central Bank)की सालाना रिपोर्ट मै यह जानकारी सामने आई है.

इतना बढ़ा गया स्विस बैंको मै इंडियन डिपाजिट

न्यूज एजेंसी पीटीआई की एक खबर के अनुसार,स्विजरलैंड के सेंट्रल बैंक ने गुरुवार को सालाना रिपोर्ट जारी की.रिपोर्ट मै बताया जारी की.रिपोर्ट मै बताया गया की साल 2021मै स्विस बैंको मै भारतीय नागरिकों और कंपनियों का डिपाजिट बढ़कर 3.83बिलियन स्विस फ्रैंक (Swis Franc) यानी 30,500 करोड़ रूपये (INR)से भी ज्यादा हो गया.यह इससे एक साल पहले यानी 2020 के अंत मै महज 2.55 बिलियन स्विस फ्रैंक यानी करीब 20,700 करोड़ रूपये था.इसका मतलब हुआ कि पिछले साल स्विस बैंको मै भारतीयों का पैसा करीब 50 फीसदी बढ़ गया.

इन तरीकों से जमा करते हैं भारतीय लोग

आकड़ो के अनुसार,स्विस बैंको मै भारतीय लोगों सेविंग(Saving Account)और डिपाजिट अकाउंट (Deposite Account) मै जमा राशि करीब 4800 करोड़ रूपये पर पहुँच गई.यह सात साल का सबसे उच्च स्तर है.लगातार दो साल इसमें गिरावट आने के बाद 2021 मै तेजी देखने को मिली है.भारतीयों लोग और कंपनियों के कई मधिय्मो से स्विस बैंकों मै पैसे जमा करते हैं.इनमें कस्टमर डिपाजिट (Customer Deposite),बैंक (Bank),ट्रस्ट (Trust),सिक्योरिटी (Security) जैसे माध्यम प्रमुख हैं.

2006 के बाद सिर्फ पांच साल बढ़ा डिपाजिट

स्विट्ज़रलैंड के सेंट्रल बैंक ने बताया की भारतीय लोग स्विस बैंकों मै सबसे ज्यादा बांड,सिक्योरिटी व अन्य फनेंशियल साल्युशंस के जरिये पैसे जमा करते हैं.इन तरीकों से स्विस बैंकों मै भारतीयों का जमा बढ़कर 2002मिलियन स्विस फ्रैंक हो गया हैं,जो 2020 के अंत मै1665 मिलियन स्विस फ्रैंक था.इससे पहले साल 2006 मै स्विस बैंकों मै भारतीयों का पैसा पिक पर था और अब इसका आंकड़ा करीब 6.5 बिलियन स्विस फ्रैंक था.उसके बाद ज्यादातर सालों मै इसमें गिरावट ही आई.बैंक के अनुसार साल 2011,2013,2017,2020 और , 2021 ही एसे रहे हैं,जब स्विस बैंकों मै भारतीयों का डिपाजिट बढ़ा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.