विदेशी निवेशकों के ‘महापलायन’ से कांपा Stock Market,जून में बेचे रिकॉर्ड 50,203करोड़ के शेयर

यह मार्च ,2020 के बाद उनकी निकासी का सबसे उंचा आंकड़ा है| उस समय एफपीआई ने भारतीय शेयरों से 61,973करोड़ रुपये निकाले थे |

Stock Market : अमेरिका में ब्याज दरो में बदलाव का सिलसिला भारतीय शेयर बाजार की कमर तोड़ रहा है ,जून महीने में बड़ी तबाही लाते हुए विदेशी निवेशको ने भारतीय शेयर बाजार से 50000करोड़ से ज्यादा के शेयर बेच डाले ,यह बीते दो साल में बड़ा आंकड़ा है |

अमेरिकी केंद्रीय बैंक के आक्रामक रुख ,ऊंची मुद्रास्फीति तथा घरेलु शेयरों के ऊँचे मूल्यांकन की वजह से एफपीआई लगातार बिकवाल बने हुए है |जानकर विदेशी निवेशकों के इस ‘महापलायन’ को देश की आर्थिक स्थिति के लिए बड़ा खतरा बता रहे है |

भारत से बाहर गए 50,203 करोड़ रूपये

शेयर बाजार से मिली जानकारी के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ( एफपीआई )की भारतीय बाजारों से निकासी का सिलसिला जून में लगातार नौवे महीने जारी रहा |जून में एफपीआई ने शुद्ध रूप से 50,203करोड़ रुपये के शेयर बेचे |यह मार्च 2020के बाद उनकी निकासी का सबसे उंचा आंकड़ा है | उस समय एफपीआई ने भारतीय शेयरों से 61,973करोड़ रुपये निकाले थे |

सिर्फ 6 महीने में निकाले 2.2 लाख करोड़

डिपोजिटरी के आंकड़ो के अनुसार ,2022 के पहले छह माह में एफपीआई भारतीय शेयर बाजारों से 2.2लाख करोड़ रुपये की निकासी कर चुके है | यह उनकी निकासी का सबसे उंचा आंकड़ा है | इससे पहले 2008 के पुरे साल में एफपीआई ने शेयर बाजार से 52,987 करोड़ रुपये निकाले थे |

आगे भी जारी रहेगी बिकवाली

विक्ष्लेषको ने आगाह किया है की अभी एफपीआई की निकासी जारी रह सकती है |कोटक सिक्योरिटी के इक्विटी शोध (खुदरा ) प्रमुख श्रीकांत चैहान ने कहा ,” आगे चलकर हमारा मानना है की मुद्रास्फीति से एफपीआई का रुख तय होगा | इसके अलावा बांड और शेयरों पर प्राप्ति का अंतर भी लगातार कम रहा है | इससे भी एफपीआई निकासी कर रहे है |”

भारत नही बल्कि दुसरे देश भी परेशान

मोर्निगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक -प्रबोधक शोध हिमांशु श्र्वास्तव ने कहा ,”फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में आक्रमक वृद्धि, उची महंगाई दर तथा शयरों के ऊँचे मुल्यांकन की वजह से एफपीआई भारतीय शेयर बजारों से निकल रहे है |”भारत को लेकर अभी उनका नजरिया नेगेटिव बना हुआ है| लेकिन एफपीआई से भारत ही परेशान नही है,जून में अन्य उभरते बाजारों मसलन इंडोनेशिया,फिलिपीन,दक्षिण कोरिया,ताइवान और थाईलैंड में भी एफपीआई ने जमकर शेयर बेचे हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published.